श्री श्री रवि शंकर जी द्वारा रचित एक सुंदर कविता…

छोटी सी जिंदगी है ,
हर बात में खुश रहो।

जो पास में ना हो ,
उनकी आवाज़ में खुश रहो।

कोई रूठा हो तुमसे ,
उसके इस अंदाज़ में खुश रहो।

जो लौट के नही आने वाले है,
उन लम्हो कि याद में खुश रहो।

कल किसने देखा है ,
अपने आज में खुश रहो।

खुशियों का इन्तेजार किसलिए ,
दुसरो कि मुस्कान में खुश रहो।

क्यूँ तड़पते हो हर पल किसी के साथ को ,
कभी तो अपने आप में खुश रहो।

छोटी सी जिंदगी है ,
हर हाल में खुश रहो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.